“बाइनरी ऑप्शन्स की गतिमान दुनिया मे कार्यनीतियों का प्रयोग करना अनिवार्य है। यहाँ पर बहुत सी अलग-अलग प्रकार की कार्यनीतियों के कारण, ये आपकी व्यक्तिगत पसंद बन जाता है कि आप कौन सी कार्यनीति चुनेगे ताकि आप बहुत सारा मुनाफा और बहुत कम घातक घाटे सुनिश्चित कर सकें। दोहरे विकल्प

कुछ कार्यनीतियों का झुकाव प्रोफेशनल और अनुभव ट्रेडरों की ओर होता है जबकि बाकी नए ट्रेडरों के लिए बनी हैं ताकि वे आसान तरीकों का अच्छा इस्तेमाल कर सकें।

नए ट्रेडरों के लिए बनी कार्यनीतियों का एक उदाहरण बाइनरी ऑप्शन्स हेजिंग कार्यनीति है। यह बाइनरी ऑप्शन्स समुदाय में सर्वाधिक लोकप्रिय कार्यनीतियों में से एक है; एक ऐसी कार्यनीति जिस पर प्रतिदिन आने वाले उपयोगकर्ता भरोसा कर सकें, वे उपयोगकर्ता नौसीखिए से लेकर अनुभवी ट्रेडर भी हो सकते हैं।

यह हमें सबसे महत्वपूर्ण प्रश्न के उत्तर की ओर ले जाता है:

बाइनरी ऑप्शन्स हेजिंग कार्यनीति क्या है?

बाइनरी ऑप्शन्स के परिप्रेक्ष्य से इसे जानने से पहले, हमें पहले Hedging शब्द का अर्थ जानना चाहिए। सरल शब्दों में, Hedging का मतलब है जोखिम कम करना, नियंत्रित करना या सीमित करना। वास्तविक जीवन में Hedging उदाहरण के तौर पर अपने घर के लिए बीमा पॉलिसी लेने जैसा है जो मौसम संबंधी आपदाओं या चोरो के डर को कवर करता है।

यही सिद्धान्त ऑप्शन्स ट्रेडिंग बाज़ार पर भी लागू होता है। बाइनरी ऑप्शन्स हेजिंग कार्यनीति में आप एक ही आस्ति में एक ही समय पर Put और Call दोनो ट्रेड लगाते हैं। इसका प्रयोग ज़्यादातर परिवर्तनशील बाज़ारों में किया जाता है जो आस पास के वातवर्ण और उनसे जुड़ी घटनाओं से आसानी से प्रभावित होती हैं।

इसके पीछे यह विचार है कि दोनों संभावित परिणामों को एक साथ कवर किया जाए ताकि सारे निवेश किए हुए धन को एक साथ खोने से बचा जा सके। चाहे एक हो या दूसरा, समाप्ती अवधि के खत्म होने पर इनमें से एक ट्रेड में मुनाफा होगा और आपको मध्यम मुनाफे या फिर बुरी हालत में भी कम घाटा होने की गारंटी मिलती है। इसलिए, मूल रूप से, बाइनरी की दुनिया में बाइनरी ऑप्शन्स हेजिंग कार्यनीति दिवालिया होने से बचने के लिए एक बीमा है।

तो, इस कार्यनीति को कहाँ लागू कर सकते हैं?

इस विशेष कार्यनीति को अनगिनत तरीको से प्रयोग में लाया जा सकता है: कमोडिटी से लेकर करेंसी तक, लगभग सब कुछ इस बाज़ार में hedge यानि जोखिम सीमित किया जा सकता है। वस्तुत: करेंसी एक सर्वाधिक ट्रेड की जाने वाली आस्ति है, और दैनिक रूप से इसमें Hedging का प्रयोग किया जाता है। EUR/USD जैसे करेंसी जोड़ों के मूल्य में बहुत अधिक उतार चढ़ाव होता है, जिसके कारण एक द्विआधारी विकल्प कारोबार

चाहे आप बाइनरी ऑप्शन्स हेजिंग कार्यनीति का प्रयोग कहीं भी करें, एक चीज हमेशा महत्वपूर्ण रहती है: बाज़ार का अवलोकन जिसके बिना आप आगे नहीं बढ़ सकते। खबरों पर नज़र रखें, उन सारी चीजों को ध्यान में रखें जो आपकी ट्रेड की हुई आस्ति के मूल्य को प्रभावित कर सकती हैं, चार्ट्स को ध्यानपूर्वक पढ़ें, आंकड़ों का विश्लेषण करें और हमें सूचना के अनुसार निर्णय ही लें!

जितना संभव हो कम से कम जोखिम के साथ मुनाफा सुनिश्चित करना हर ट्रेडर का परम लक्ष्य होता है और जैसा कि हमे ऊपर बताया है, इसे प्राप्त करने के अलग-अलग तरीके और कार्यनीतियाँ हैं। जिनमें सरल और प्रयोग में आसान से लेकर अधिक जटिल और समझने में मुश्किल कार्यनीतियां भी हैं, इन तकनीकों का बाज़ार विश्लेषण के साथ समायोजन करके बाइनरी ऑप्शन्स ट्रेडिंग में उपयोग करने पर से जीवन रक्षक साबित होती हैं।

लेकिन हमेशा हर चीज खुशगवार अनुकूल नहीं होती। इसीलिए इन कार्यनीतियों के संबंध में सबसे महत्वपूर्ण सलाह की इनका सावधानीपूर्वक प्रयोग किया जाए, और केवल वही प्रयोग किया जाए जिस पर आपको आत्मविश्वास हो! याद रहे, सबसे अच्छी कार्यनीति वो होती है को आपको आगे ले जाती है!”

अस्वीकरण : वायदा, स्टॉक और विकल्प ट्रेडिंग में नुकसान का पर्याप्त जोखिम शामिल है और हर निवेशक के लिए उपयुक्त नहीं है। वायदा, स्टॉक और विकल्पों के मूल्यांकन में उतार-चढ़ाव हो सकता है, और परिणामस्वरूप, ग्राहक अपने मूल निवेश से अधिक खो सकते हैं। मौसमी और भू-राजनीतिक घटनाओं का प्रभाव पहले से ही बाजार की कीमतों में निहित है। वायदा कारोबार के अत्यधिक लाभकारी प्रकृति का मतलब है कि छोटे बाजार के आंदोलनों का आपके ट्रेडिंग खाते पर बहुत प्रभाव पड़ेगा और यह आपके खिलाफ काम कर सकता है, जिससे बड़े नुकसान हो सकते हैं या आपके लिए काम कर सकते हैं, जिससे बड़े लाभ हो सकते हैं।

यदि बाजार आपके खिलाफ चलता है, तो आप अपने खाते में जमा की गई राशि से अधिक हानि कर सकते हैं। आप उन सभी जोखिमों और वित्तीय संसाधनों के लिए जिम्मेदार हैं जिनका आप उपयोग करते हैं और चुने हुए ट्रेडिंग सिस्टम के लिए। आपको तब तक ट्रेडिंग में संलग्न नहीं होना चाहिए जब तक कि आप लेन-देन की प्रकृति को पूरी तरह से नहीं समझते हैं और आप नुकसान के संपर्क में हैं। यदि आप इन जोखिमों को पूरी तरह से नहीं समझते हैं, तो आपको अपने वित्तीय सलाहकार से स्वतंत्र सलाह लेनी चाहिए।

All trading strategies are used at your own risk.