binary options हाल के वर्षों में बाइनरी ट्रेडिंग अपनी सरलता और उपलब्धता के कारण काफ़ी लोकप्रिय रही है ।

वास्तव में, बाइनरी ट्रेडिंग उन लोगों के लिए है जो ट्रेडर बनना चाहते हैं और पैसे कमाना चाहते हैं । कई ब्रोकर और प्लैटफॉर्म उपलब्ध है जो सभी सभी ट्रेडरों को विभिन्न विकल्प प्रदान करते हैं । बाइनरी ट्रेडिंग के मूल में आस्तियां हैं ।

हर बाइनरी ऑप्शंस ट्रेडिंग प्लैटफॉर्म अलग -अलग आस्तियां ऑफर करता है, लेकिन सामान्य तौर पर, वे सब एक ही जैसे होते हैं।  सभी के कुछ न कुछ है- आपको बस वह आस्ति ढूंढनी होगी जिसमें आप निवेश करना चाहते हैं और जिसके बारे में आप जानते हैं।आइए सबसे अधिक लोकप्रिय आस्तियों पर नज़र डालते हैं  जो बाइनरी ऑप्शंस प्लैटफॉर्म ऑफर कर रहे हैं!

 

करेंसियाँ

करेंसी ट्रेडिंग सबसे आम ट्रेडिंग प्रकार है जो आप सभी बाइनरी ऑप्शंस प्लैटफॉर्मों पर देख सकते हैं। करेंसी ट्रेडिंग का मतलब है कि एक ट्रेडर के तौर पर आप करेंसी जोड़ों और उनकी विनिमय दरों पर ट्रेड लगा रहे हैं। आप विभिन्न करेंसी जोड़ों जैसे USD/EUR, USD/GBP, EUR/GBP, USD/ JPY इत्यादि में निवेश कर सकते हैं जो इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस प्लैटफॉर्म का प्रयोग कर रहे हैं ।

इस तरह की आस्तियां फ़ॉरेन एक्स्चेंज, फॉरेक्स या FX के नाम से जानी जाती हैं। इस प्रकार की ट्रेडिंग में, आप सीधे तौर पर एक करेंसी के मूल्य की तुलना दूसरी करेंसी से करते हैं या दूसरे शब्दों में, आप अनुमान लगाते हैं कि दी हुई समय -सीमा में एक करेंसी दूसरी करेंसी तुलना में अधिक मजबूत हो जाएगी – उदाहरण के लिए, आपको USD/EUR के करेंसी जोड़े के बारे में अनुमान लगाना है। आप क्या सोचते हैं – क्या EUR का मूल्य USD के मुक़ाबले बढ़ जाएगा, या फिर इसका बिलकुल उल्टा होगा? करेंसी जोड़े सबसे लोकप्रिय ट्रेडिंग आस्तियां हैं क्योंकि ये समझने में आसान हैं।

READ  Parabolic SAR कार्यनीति - Olymp trade

स्टॉक

स्टॉक में ट्रेड लगाना कोई नई बात नहीं है, क्योंकि बहुत से निवेशक वर्षों से स्टॉक में काम कर रहे हैं और ट्रेड लगा रहे हैं। लेकिन, बाइनरी स्टॉक ट्रेडिंग इस हिसाब से काफी नई चीज़ है और इसे निवेशकों ने अंतत: लाभदायक और उत्साहवर्धक पाया। लेकिन, आपको पहले यह समझना होगा कि स्टॉक कैसे काम करते हैं, क्योंकि स्टॉक अनुभवी ब्रोकरों की वरीयता होते हैं।

बाइनरी ब्रोकर विभिन्न प्रकार के स्टॉक ऑफर करते हैं जिनकी कीमतों का आप अनुमान लगा सकते हैं। गूगल स्टॉक, एपल स्टॉक, कोका कोला स्टॉक, डच बैंक स्टॉक इत्यादि  सबसे लोकप्रिय स्टॉक आस्तियों में से हैं। स्टॉक आस्तियों का चुनाव ब्रोकर और प्लैटफॉर्म के चयन पर निर्भर करता है।

कुछ केवल सर्वाधिक लोकप्रिय आस्टिया ऑफर करते हैं, जबकि कुछ अन्य, गंभीर ब्रोकर स्थानीय स्टॉक भी भी ऑफर करते हैं। यह ट्रेडर की लोकेशन और देश पर निर्भर करता है जहां वह स्थित है।

वरीयता प्राप्त बाइनरी ऑप्शन प्रकरों का प्रयोग करके उनके निवेशक स्टॉक श्रेणी की किसी आस्ति पर ट्रेड लगा सकते हैं।

binary options trading

कमोडिटीज़

कमोडिटीज़ उन लोगों के लिए सर्वोत्कृष्ट साबित हो सकती है जिन्होने अभी-अभी बाइनरी ऑप्शन ट्रेडिंग की दुनिया में कदम रखा है। ये विश्वसनीय और कम जोखिम वाले निवेश हैं जिसे आप आगे बढ्ने से पहले आज़मा सकते हैं। सोना, चांदी, तेल, कॉफी इत्यादि सबसे लोकप्रिय कमोडिटीज़ हैं।

कमोडिटीज़ में ट्रेड करना कम जोखिम वाला माना जाता है क्योंकि कई निवेशकों के अनुसार इनका अनुमान लगाना आसान होता है। विश्व की वर्तमान आर्थिक स्थिति को देखते हुए, सबसे सही नियम यगा कि ज़्यादातर मामलों में दी गई समय-सीमा में कमोडिटीज़ की कीमत बढ़ जाएगी। लेकिन, कम जोखिम वाली ट्रेड होते हुए भी यह जोखिम मुक्त बिलकुल भी नहीं है! यह बात आपको ध्यान रखनी चाहिए!

READ  ExpertOption ग्राहक के रूप में पंजीकरण की प्रक्रिया

सूचकांक

सूचकांकों में ट्रेड करना सबसे मुश्किल माना जाता है। क्यों? क्योंकि सूचकांकों के मूल्य कभी कोई बहुत बड़ा बदलाव नहीं आता, छोटे बदलाव आम लोग नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर ये निवेशकों के लिए बहुत मायने रखते हैं। सूचकांकों की कीमतें हमेशा घटती -बढ़ती रहती हैं- और कीमत में बहुत छोटे बदलाव होते हैं इस कारण समाप्ति अवधि पर इनकी कीमत का अनुमान लगाना मुश्किल हो जाता है।

इसीलिए अक्सर केवल सबसे अनुभवी निवेशक ही सूचकांको का चयन करते हैं, और नए लोगों को यह सुझाव दिया जाता है कि वे सूचकांकों के साथ ट्रेड लगाना शुरू न करें जब तक कि उन्हें कुचनुभाव और आत्मविश्वास प्राप्त नहीं हो जाता।

बाइनरी ऑप्शंस ब्रोकर और प्लैटफॉर्म ट्रेडरों को अलग-अलग प्रकार के सूचकांक ऑफर करते हैं जैसे DAX-30, FTSE-100, DOW Jones, S&P500 इत्यादि। सूचकांकों की विविधता आपके द्वारा चुने गए ब्रोकर पर निर्भर करती है। गंभीर बाइनरी ब्रोकर कई देशों जैसे अमेरिका, यूके, जर्मनी, जापान, फ्रांस आदि से सूचकांक ऑफर करते हैं।

बाइनरी ऑप्शंस ब्रोकर उपरोक्त चार प्रकारों की आस्तियां आपके ग्राहकों को ऑफर करते हैं, लेकिन हर श्रेणी की व्यापकता उस ब्रोकर पर निर्भर करती है जिसके साथ आप काम कर रहे हैं। करेंसियाँ और कमोडिटीज़ को ट्रेड करने काफी आसान माना जाता है फिर भी, जोखिम हमेशा ही होता है।

दूसरी ओर, स्टॉक और सूचकांक अधिक जोखिम वाले माने जाते हैं, क्योंकि इनकी कीमतें एक सेकंड से भी कम समय में किसी भी दिशा में जा सकती हैं। अगर आप अनुभवी ट्रेडर हैं, तो आपको शायद पहले ही ये बातें पता होंगी, लेकिन अगर आप इस क्षेत्र में नए हैं तो आपको बड़ी ट्रेड से शुरुआत नहीं करनी चाहिए। अनुभव प्राप्त करने के लिए अपने अनुकूल आस्तियों के साथ शुरुआत करें। गुड लक!

READ  मूविंग एवरेज तकनीकी सूचक के लिए मार्गदर्शिका

बाइनरी ऑप्शंस ट्रेडिंग के बारे में अधिक जाने:

Click here to get this post in PDF